दारू शायरी-DAARU SHAYARI

1.
नशा है क्या मोहब्बत का
देख लिया इश्क में पड़कर |
भूल बैठा हूँ खुद को ही
फसाने इश्क के गढकर ।।
उतर जाती है मय तो
रात के ढलने के बाद ।
नशा कभी कम नहीं होता
किसी के इश्क का चढकर ।।

दारू शायरी- DAARU SHAYARI हिंदी

daaru

nasha hai kya mohabbat ka
dekh liya ishk mein padakar |
bhool baitha hoon khud ko hee
phasaane ishk ke gadhakar ..
utar jaatee hai may to
raat ke dhalane ke baad .
nasha kabhee kam nahin hota
kisee ke ishk ka chadhakar ..

IN THIS POST YOU GET BEST दारू शायरी-DAARU SHAYARI हिंदी

DARU SHAYARI

2.
हम मयखानों में बैठकर
दर्द सुनाने से नहीं डरते ।
जब जाना नहीं है घर तो
लड़खड़ाने से नहीं डरते ।।
बदनाम ना हो मय,
की गम भुलाती नहीं।
दोस्तो इसलिये पैमानो में
हम पानी नहीं भरते ।।

ham mayakhaanon mein baithakar
dard sunaane se nahin darate .
jab jaana nahin hai ghar to
ladakhadaane se nahin darate ..
badanaam na ho may,
kee gam bhulaatee nahin.
dosto isaliye paimaano mein
ham paanee nahin bharate .

शराब की बोतल पर शायरी

DARU SHAYARI

3.
बहुत जी चुके उनके लिये
अब अपने लिये जिने दो ।
वफा के जख्म खुद हमको
अपने हाथों से सीने दो ।।
अब मय के चार घूटों से
दर्द थमते नहीं ।
आज हटा दो ये पैमाने,
सारा मयखाना पीने दो ।।

bahut jee chuke unake liye
ab apane liye jine do .
vapha ke jakhm khud hamako
apane haathon se seene do ..
ab may ke chaar ghooton se
dard thamate nahin .
aaj hata do ye paimaane,
saara mayakhaana peene do ..

दारू शायरी- DAARU SHAYARI

DARU SHAYARI

4.
कुछ लोग यहाँ दौलत के
नशे में जिया करते हैं ।
कुछ लोग यहाँ शोहरत के
जाम पिया करते हैं ।।
यूँ तो नशे में चूर है
हर शक्स यहां ।
बस पीने वालों को तो
बदनाम किया करते हैं ।।

kuchh log yahaan daulat ke
nashe mein jiya karate hain .
kuchh log yahaan shoharat ke
jaam piya karate hain ..
yoon to nashe mein choor hai
har shaks yahaan .
bas peene vaalon ko to
badanaam kiya karate hain ..

दारू शायरीDAARU SHAYARI

DARU SHAYARI

5.
ना आकर आज मुझे कोई
अपने मदहोश में ले ले ।
ना मेरे बहकते कदमो को
आकर होश में ले ले ।।
कह दो ना जलाये चिराग
वो मेरी मजार पर ।
कही मेरी रूह चिराग में
आकर उसे आगोश में ले ले ।।

na aakar aaj mujhe koee
apane madahosh mein le le .
na mere bahakate kadamo ko
aakar hosh mein le le ..
kah do na jalaaye chiraag
vo meree majaar par .
kahee meree rooh chiraag mein
aakar use aagosh mein le le ..

दारू शायरी- DAARU SHAYARI

DARU SHAYARI

6.
आज महफिल में उनको भी
अफसाने सुनाना आ गया ।
हथेली रख के होठों पर
उन्हें भी मुस्कुराना आ गया ।।
दिखाये रास्ते जिनको
थामकर ऊँगलिया ।
पकड़कर हाथ गैरों के
उन्हें भी दिल जलाना आ गया ।।

aaj mahaphil mein unako bhee
aphasaane sunaana aa gaya .
hathelee rakh ke hothon par
unhen bhee muskuraana aa gaya ..
dikhaaye raaste jinako
thaamakar oongaliya .
pakadakar haath gairon ke
unhen bhee dil jalaana aa gaya

दारू शायरी- DAARU SHAYARI

DARU SHAYARI

7.
क्या रूठ जाने के डर से
दोस्तों को आजमाना छोड़ दें।
सच नहीं होंगे तो क्या
सपने सजाना छोड़ दें ।।
ये सच है कि मिलते हैं
मोहब्बत में सितम ।
पर रूसवाइयों के डर से क्या
अपना दिल लगाना छोड़ दें ।।

kya rooth jaane ke dar se
doston ko aajamaana chhod den.
sach nahin honge to kya
sapane sajaana chhod den ..
ye sach hai ki milate hain
mohabbat mein sitam .
par roosavaiyon ke dar se kya
apana dil lagaana chhod den ..

दारू शायरीDAARU SHAYARI and बोतल पर शायरी or मयखाने शायरी

DARU SHAYARI

8.
तमाम उम्र हम जिनसे
अपनी निभाते रहे वफा ।
धोखे मिले हैं प्यार में
तो अपनी है क्या खता ।।
जिनके लिये मिटा दिया
हमने अपना वजूद ।
वही आज हमसे पूछते है
तू कौन है बता ।।

tamaam umr ham jinase
apanee nibhaate rahe vapha .
dhokhe mile hain pyaar mein
to apanee hai kya khata ..
jinake liye mita diya
hamane apana vajood .
vahee aaj hamase poochhate hai
too kaun hai bata ..

शराब पर व्यंग्य

Leave a Comment

x