100+ BEST शराब शायरी-SHARAABI SHAYARI

1.
मोहब्बत में खाईं थीं जो वो कसमें तोड़ दीं मैंने ।
मिली जहाँ प्यार में ठोकर वो गलियाँ छोड़ दी मैंने ।।
आती थी जिनमे बेवफा की सूरत नजर ” विक्रम ।
मयखाने में जाकर बोतलें वो सब फोड़ दी मैंने ।।

शराब शायरी-SHARAABI SHAYARI हिंदी

IN THIS POST YOU GET BEST शराब शायरी-SHARAABI SHAYARI हिंदी

शराब शायरी

mohabbat mein khaeen theen jo vo kasamen tod deen mainne .
milee jahaan pyaar mein thokar vo galiyaan chhod dee mainne ..
aatee thee jiname bevapha kee soorat najar ” vikram .
mayakhaane mein jaakar botalen vo sab phod dee mainne ..

SHARAB SHAYARI

2.
वो हमसे मोहब्बत के हिसाब माँगते हैं ।
बेवफा होकर वफा के जवाब माँगते हैं ।।
वो कहते हैं मयखाना ए शाकी मुझे।
हमसे ही गम भुलाने को शराब माँगते हैं ।।

vo hamase mohabbat ke hisaab maangate hain .
bevapha hokar vapha ke javaab maangate hain ..
vo kahate hain mayakhaana e shaakee mujhe.
hamase hee gam bhulaane ko sharaab maangate hain ..

sharab shayari

3.
मोहब्बत के दिल जले शीशे से पत्थरों को तोड़ देते हैं ।
जुनून – ए – इश्क में फौलाद को हाथों से मोड़ देते हैं ।।
जितनी पीने के बाद बहक जाते हैं लोगों के कदम ।
उतनी तो पीकर हम खाली पैमानों में छोड़ देते हैं ।।

mohabbat ke dil jale sheeshe se pattharon ko tod dete hain .
junoon – e – ishk mein phaulaad ko haathon se mod dete hain ..
jitanee peene ke baad bahak jaate hain logon ke kadam .
utanee to peekar ham khaalee paimaanon mein chhod dete hain ..

sharab shayari

4.
लगता है मयखाने में वो
मेरे बाजू से गुजर जाती है।
छलकते हुऐ जाम के
पैमानों में उभर आती है ।।
मैं पीता हूँ भुलाने को
दिल से जिसे।
वो कभी शाकी में
कभी बोतल में नजर आती है ।।

lagata hai mayakhaane mein vo
mere baajoo se gujar jaatee hai.
chhalakate huai jaam ke
paimaanon mein ubhar aatee hai ..
main peeta hoon bhulaane ko
dil se jise.
vo kabhee shaakee mein
kabhee botal mein najar aatee hai ..

शराब शायरी-SHARAABI SHAYARI

sharab shayari

5.
नशे में भूल गया सब कुछ
बस तेरा इन्तेजार है ।
तू दिल में ही नहीं
लहू के हर कतरे में शुमार है ।।
तेरे मयखानों ने बख्शी है
फक्त गुरबत हमें ।
फिर भी ना जाने क्यूँ
तेरे पैमानों से प्यार है ।।

nashe mein bhool gaya sab kuchh
bas tera intejaar hai .
too dil mein hee nahin
lahoo ke har katare mein shumaar hai ..
tere mayakhaanon ne bakhshee hai
phakt gurabat hamen .
phir bhee na jaane kyoon
tere paimaanon se pyaar hai ..

sharab shayari

6.
गुजारिश है समा जाऊँ तेरी
धड़कन और सांसों में ।
हकीकत बनके बस आजा
मेरे दिल के कयासों में ।।
मोहब्बत की निगाहों से
मुझे इतनी पिला ।
नशा बनके समां जाऊँ
तेरी मदहोश आखों में ।।

gujaarish hai sama jaoon teree
dhadakan aur saanson mein .
hakeekat banake bas aaja
mere dil ke kayaason mein ..
mohabbat kee nigaahon se
mujhe itanee pila .
nasha banake samaan jaoon
teree madahosh aakhon mein

शराब शायरी-SHARAABI SHAYARI

sharab shayari

7.
सुकून देती है शराब
दुनियां में गम के मारों को ।
ये जिंदगी देती है सभी
जिंदगी के हारों को ।।
ये तो दवा है हरेक
मरीज ए रोग की।
मिट जाते हैं गम ए दिल
छूकर जाम के किनारों को ।।

sukoon detee hai sharaab
duniyaan mein gam ke maaron ko .
ye jindagee detee hai sabhee
jindagee ke haaron ko ..
ye to dava hai harek
mareej e rog kee.
mit jaate hain gam e dil
chhookar jaam ke kinaaron ko ..

शराब शायरी-SHARAABI SHAYARI

sharab shayari

8.
मुझे सहारे मिले जहाँ
कैसे छोडूं मयखानों को ।
होठों से जिनको छुआ है
कैसे तोडूं पैमानों को ।।
शाकी ने जाम पिलाये हैं
खुद अपने हाथों से ।
कैसे बतलाओ ठुकरा दूं
उन हाथों के अहसानों को ।।

mujhe sahaare mile jahaan
kaise chhodoon mayakhaanon ko .
hothon se jinako chhua hai
kaise todoon paimaanon ko ..
shaakee ne jaam pilaaye hain
khud apane haathon se .
kaise batalao thukara doon
un haathon ke ahasaanon ko ..

sharab shayari

9.
दुनियां ने ठुकराया जब,
तब मयखानों ने अपनाया ।
शाकी ने देकर जाम हाथ से
दिल ओ जान से बिठलाया ।
पैमानों से जिगर में उतरे
जब जब घूंट मेरे ।
घायल दुनियां के किये हुए
मेरे जख्मों को सहलाया ।।

duniyaan ne thukaraaya jab,
tab mayakhaanon ne apanaaya .
shaakee ne dekar jaam haath se
dil o jaan se bithalaaya .
paimaanon se jigar mein utare
jab jab ghoont mere .
ghaayal duniyaan ke kiye hue
mere jakhmon ko sahalaaya ..

शराब शायरी-SHARAABI SHAYARI

sharaAbI shayari

10.
हाथ में पैमाना भरा
और सामने शाकी मेरे ।
पी चुका बोतल भरी
पर प्यास है बाकी मेरे ।।
लगता हैं इस शराब से
नशा होगा नहीं ।
असर उस बेवफा के गमों का
है जिगर में बाकी मेरे ।।

haath mein paimaana bhara
aur saamane shaakee mere .
pee chuka botal bharee
par pyaas hai baakee mere ..
lagata hain is sharaab se
nasha hoga nahin .
asar us bevapha ke gamon ka
hai jigar mein baakee mere ..

Leave a Comment