SHARABI SHAYARI IN HINDI | दारू शायरी

SHARABI SHAYARI IN HINDI


1.
मैं चला आया हूं मयखाने,
भुलाने दर्दो गम इश्क के।
जो भूल जाओ खुद को भी
ए साकी मुझे इतना पीला।।

main chala aaya hoon mayakhaane,
bhulaane dardo gam ishk ke.
jo bhool jao khud ko bhee
e saakee mujhe itana peela..

SHARABI SHAYARI-दारू शायरी

IN THIS POST YOU GET BEST SHARABI SHAYARI IN HINDI.

SHARABI SHAYARI IN HINDI


2.
बहुत आसान है राहे मेरी
घर से मयखाने की।
कोई बंदिश भी नहीं है
मुझ पर इस जमाने की।।

bahut aasaan hai raahe meree
ghar se mayakhaane kee.
koee bandish bhee nahin hai
mujh par is jamaane kee..

मयखाना शायरी

SHARABI SHAYARI IN HINDI


3.
पी तो लेता हूं,
भरे हुए पैमाने सभी।
‌‌‌‌पर औकात नहीं है शराब में
मेरे गम भुलाने की।।

pee to leta hoon,
bhare hue paimaane sabhee.
‌‌‌‌par aukaat nahin hai sharaab mein
mere gam bhulaane kee..

SHARABI SHAYARIशराब की बोतल पर शायरी

SHARABI SHAYARI IN HINDI


4.
महबूब के आगे तो चांद मैं भी
दोष नजर आते हैं।
जाम पीने के बाद तो तूफ़ान
भी खामोश नजर आते हैं।।

mahaboob ke aage to chaand main bhee
dosh najar aate hain.
jaam peene ke baad to toofaan
bhee khaamosh najar aate hain..

जाम शायरी

5.
नशा तो मय और मोहब्बत
दोनों में है।
गले दोनों को लगाकर लोग
मदहोश नजर आते हैं।।

nasha to may aur mohabbat
donon mein hai.
gale donon ko lagaakar log
madahosh najar aate hain..

दारू शायरीमय शायरी

SHARABI SHAYARI IN HINDI


6.
जुल्फों से उनकी पिते
खूब निचोड़ कर।
काश आसमान से शराब
की बरसात हुआ करती

julphon se unakee pite
khoob nichod kar.
kaash aasamaan se sharaab
kee barasaat hua karatee

SHARABI SHAYARIDaaru shayri

SHARABI SHAYARI IN HINDI


7.
हावी है मयखाने का नशा
कुछ इस कदर।
आजकल पानी भी हमको
लाल नजर आने लगा है।।

haavee hai mayakhaane ka nasha
kuchh is kadar.
aajakal paanee bhee hamako
laal najar aane laga hai..

शराबी शायरी इमेज

SHARABI SHAYARI IN HINDI


8.
गम के मारे ही मयखानो में
जिया करते हैं लोग।
दर्द भुलाने के लिए ही
पैमाने पिया करते हैं लोग।।

gam ke maare hee mayakhaano mein
jiya karate hain log.
dard bhulaane ke lie hee
paimaane piya karate hain log..

SHARABI SHAYARI IN HINDI


9.
खत्म सब हो गई बोतल
मयखानों की क्युं
बिना मय रात का ‌‌‌‌ढलना
अब पसंद नहीं है क्युं

khatm sab ho gaee botal
mayakhaanon kee kyun
bina may raat ka ‌‌‌‌dhalana
ab pasand nahin hai kyun

dard bhari sharabi shayari in hindi font

SHARABI SHAYARI IN HINDI


10.
मुझे आती है झूमती हुई
बोतल नजर ।
‌‌‌‌समझ में यह नहीं आता
नशे में कौन है यहां ।।

mujhe aatee hai jhoomatee huee
botal najar .
‌‌‌‌samajh mein yah nahin aata
nashe mein kaun hai yahaan .. 

SHARABI SHAYARI-sharabi shayari in hindi with images

11.
ये खुमार ये नशा ये मस्तियों का सिलसिला ,
लुटा रहा है साक़िया कुछ नहीं यहां मेरा । 

ye khumaar ye nasha ye mastiyon ka silasila ,
luta raha hai saaqiya kuchh nahin yahaan mera .

शराब के दोहे।

12.
कोई तो बताए अब हूँ मयक़दे में मैं यहां ,

या कि मेरे दिल में अब आ बसा है मयक़दा ।

koee to batae ab hoon mayaqade mein main yahaan ,
ya ki mere dil mein ab aa basa hai mayaqada .

13.
साक़िया को है पता ये मुझे हुआ है क्या ,
या उन्हें ख़बर , जिन्हें नशा हुआ शराब का

saaqiya ko hai pata ye mujhe hua hai kya ,
ya unhen khabar , jinhen nasha hua sharaab ka

14.
एक समय पे खुल गया समय पे बन्द हो गया ,
ये मन्दिरों की रीति क्यों मयक़दे में हो भला ।

ek samay pe khul gaya samay pe band ho gaya ,
ye mandiron kee reeti kyon mayaqade mein ho bhala .

Drink Quotes

15.
रात और दिन में कुछ फ़र्क है नहीं जहां ,
मयक़दा तो वो जहां हर समय हो जश्न का ।

raat aur din mein kuchh fark hai nahin jahaan ,
mayaqada to vo jahaan har samay ho jashn ka

16.
है दरो – दीवार में , जो कैद , वो क्या मयक़दा ,
जो तौल कर शराब दे क्या खाक है वो साक़िया ।

hai daro – deevaar mein , jo kaid , vo kya mayaqada ,
jo taul kar sharaab de kya khaak hai vo saaqiya

17.
जो नहीं चुके कभी वो शराब और है ,
जो तृप्त रुह को करे वो शराब और है ।

jo nahin chuke kabhee vo sharaab aur hai ,
jo trpt ruh ko kare vo sharaab aur hai

18.
वो और ही खुमार है वो बेखुदी भी और है ,
नहीं थमी जो एक पल वो मयक़शी भी और है ।

vo aur hee khumaar hai vo bekhudee bhee aur hai ,
nahin thamee jo ek pal vo mayaqashee bhee aur hai

19.
आसमां से रही ज़मीन पर शराब है ,
कभी खिली है धूप सी कभी घटा शराब है ।

aasamaan se rahee zameen par sharaab hai ,
kabhee khilee hai dhoop see kabhee ghata sharaab hai

20.
ये क़ायनात कुछ नहीं दौर है शराब का ,
वहीं है एक साक़िया सभी को जो पिला रहा ।

ye qaayanaat kuchh nahin daur hai sharaab ka ,
vaheen hai ek saaqiya sabhee ko jo pila raha

sharabi shayari in hindi with images

 

 

 

Leave a Comment

x